बचपन, प्यारा बचपन  

To all the kids I have, I’ve seen and I see in my life- Kaavish, Irya, Avika, Tavish, Tavisha, Tavisha, Anav, Seerat, Veeransh, Lakshit, Osheen, Chakshu, Bhavya. Your innocence inspired me to put it to words. And to the kid that my family raised up with oodles of love- me.

Advertisements

हाय बचपन, प्यारा बचपन  

बेरंग बचपन, और कभी रंगीन सा
ज़्यादातर मीठा, और कभी नमकीन सा 

कभी भुआ की ऊँची एड़ी के सैंडल चढ़ाता हुआ 
और कभी प्लास्टिक की गुड़िया को बाल्टी में डुबाता हुआ

आम को सफ़ेद फ्रॉक को खिलाता हुआ
कभी अपने खिलौनों को टम्बलर से पानी पिलाता हुआ

दादी की गोद में छिप जाता है कभी 
सो जाये सब तो खिलखिला जाता है तभी 

तिपहिया साइकिल पर पाँव लगाते हुए चलता है ज़मीं पर
मिट्टी में घूमते हुए उँगलियों के फूटते किनारों की नमीं पर

दौड़ते हुए गिर जाता है और रोने लगता है 
रोते रोते कभी थक कर सोने लगता है 

कभी माँ को पुकारता है, कभी चुप चाप ताकता है 
पास में कोई आये तो आँखों के कोनों से झांकता है 

कभी तुतलाता है, कभी मन को मचलाता है 
कभी आँखों में आँसू भर कर माँ को बुलाता है 

दादा के काँधे पर सो जाता है अक्सर ये
चुन्नी की साड़ी बाँध कर खिलखिलाता है ये 

घर की हर थाली में खाना खाता हुआ 
गली में हर आने जाने वाले को पुकारता हुआ 

कभी चाची के बाल खींचता है और कभी सजाता है 
कभी ईंटों के घर में गुड्डे गुड्डियों को कागज़ के कपडे पहनाता है 

अँधेरे में मोमबत्ती जला के कहानियां बनाता हुआ 
रो रो के घर को सर पे उठाता हुआ 

कभी चुप हो जाए तो सन्नाटा लगता है 
इसका हर एक हसीं का पल खुशियों का फव्वारा लगता है

चाचा का है लाडला और नानी की आँखों का तारा
इसकी नटखट बातों में ही है ख़ुशी का दारोमदार सारा 

आ तुझे लगा लूँ गले से और बिठा लूँ अपने पास 
दौड़ते दौड़ते थक जाता हूँ मिलाते हुए तुझसे अपनी सांस

खुशनुमा भीनी खुशबू और भोलापन तेरा 
नन्हे नन्हे पाँव तेरे और अजब सा अहसास तेरा 

तुझे छु लूँ, पकड़ लूँ, भींच लूँ अपनी बाहों में 
थक सा गया हूँ, ले चल मुझे फिर से उसी मासूमियत की पनाहों में 

Love ❤️, 

A. 

Life is fragile!!

Is life a never-ending concept?

We must rather fear life than fearing death. When we go back to any of the Hindu scriptures or documents, all of those mention death as the ultimate reality. Following the course of last few days around me and listening to the discourse arising out of it; I realised life is unpredictable. We plan till infinity only to find that life itself has finite plans. That’s finite is undefined though. 

We must do good, relentlesssly towards ourselves and our fellow human beings. With this uncertainty; it states; do good till you have a chance. You are clueless when suddenly the game will be paused by the The Force. When you’re aggravated or upset or dejected, make yourself understand- this is all temporary and would never last long. Death is going to knock the door one day and wouldn’t even give you a chance to peek or shut the door on the face of it. We, all of us, will have to embrace death, without a second thought. 

A recent incident planted in me another thought that Life is Fragile too. It is so fragile that while we keep it safe and secure most of the time, we aren’t sure if it would break all by itself or any other external force. This force or pressure many a times would be even beyond our control. Life is delicate and not only you must take care of it, but you must look after to protect the lives of those around you. A crack or a bruise which isn’t superficial will break/ shatter it beyond repair. 

The thoughts are scary, yet, can never be learnt from someone else’s experiences. And once you witness this phenomenon, there’s no going back. 

Peace be onto the world,

A.