बचपन, प्यारा बचपन  

To all the kids I have, I’ve seen and I see in my life- Kaavish, Irya, Avika, Tavish, Tavisha, Tavisha, Anav, Seerat, Veeransh, Lakshit, Osheen, Chakshu, Bhavya. Your innocence inspired me to put it to words. And to the kid that my family raised up with oodles of love- me.

हाय बचपन, प्यारा बचपन  

बेरंग बचपन, और कभी रंगीन सा
ज़्यादातर मीठा, और कभी नमकीन सा 

कभी भुआ की ऊँची एड़ी के सैंडल चढ़ाता हुआ 
और कभी प्लास्टिक की गुड़िया को बाल्टी में डुबाता हुआ

आम को सफ़ेद फ्रॉक को खिलाता हुआ
कभी अपने खिलौनों को टम्बलर से पानी पिलाता हुआ

दादी की गोद में छिप जाता है कभी 
सो जाये सब तो खिलखिला जाता है तभी 

तिपहिया साइकिल पर पाँव लगाते हुए चलता है ज़मीं पर
मिट्टी में घूमते हुए उँगलियों के फूटते किनारों की नमीं पर

दौड़ते हुए गिर जाता है और रोने लगता है 
रोते रोते कभी थक कर सोने लगता है 

कभी माँ को पुकारता है, कभी चुप चाप ताकता है 
पास में कोई आये तो आँखों के कोनों से झांकता है 

कभी तुतलाता है, कभी मन को मचलाता है 
कभी आँखों में आँसू भर कर माँ को बुलाता है 

दादा के काँधे पर सो जाता है अक्सर ये
चुन्नी की साड़ी बाँध कर खिलखिलाता है ये 

घर की हर थाली में खाना खाता हुआ 
गली में हर आने जाने वाले को पुकारता हुआ 

कभी चाची के बाल खींचता है और कभी सजाता है 
कभी ईंटों के घर में गुड्डे गुड्डियों को कागज़ के कपडे पहनाता है 

अँधेरे में मोमबत्ती जला के कहानियां बनाता हुआ 
रो रो के घर को सर पे उठाता हुआ 

कभी चुप हो जाए तो सन्नाटा लगता है 
इसका हर एक हसीं का पल खुशियों का फव्वारा लगता है

चाचा का है लाडला और नानी की आँखों का तारा
इसकी नटखट बातों में ही है ख़ुशी का दारोमदार सारा 

आ तुझे लगा लूँ गले से और बिठा लूँ अपने पास 
दौड़ते दौड़ते थक जाता हूँ मिलाते हुए तुझसे अपनी सांस

खुशनुमा भीनी खुशबू और भोलापन तेरा 
नन्हे नन्हे पाँव तेरे और अजब सा अहसास तेरा 

तुझे छु लूँ, पकड़ लूँ, भींच लूँ अपनी बाहों में 
थक सा गया हूँ, ले चल मुझे फिर से उसी मासूमियत की पनाहों में 

Love ❤️, 

A. 

The circle of life!!

Very early in life, I came to terms with the fact that life is a circle. And everything that happens to us, has a circular pattern as well. 

Let’s begin with the life itself: you take birth, you live, you reproduce (give birth to others), you die and (if you believe in rebirth) you’re reborn. A perfect circular pattern. 

Whatever you sow, so shall you reap. Taking an example of papaya here. If you plant it’s seeds into the earth, it’ll make a plant and eventually a tree. This tree will give you fruits which has seeds and this circle continues. 

If you believe in karma: whatever you’re doing is making its way to  you. What we’re doing today has either made its way from our pasts to us or making way for the future course. If I’m good to my fellow beings, this goodness is going to travel the world and would come back to me.  If we’re hurting someone or cheating upon someone, while you’re paying back the person for his misdoing and at the same time, you’re making way for  yours.

When we meet someone in our life and connect  instantly,there was a circle with them which was pending to be completed. And when people leave our life because of death or another manner, it’s because their circle is completed with us. Dont hold onto  people,you’re getting onto another loop. 
When someone betrays us, try to accept their circle with us has completed. If you keep cribbing about it, you’re not letting this circle get completed while there are more circles hanging around. 

Such simple is life- people enter our lives to complete both their and our circles with  them. And they leave once those circles are completed. And we, as humans, find it difficult to believe that detachment was a process of this living. Life has to go a complete way and we need to hop on to another circle to keep it  going. Remember those circus days from  childhood:you’re up in the air and the only way to come down is to complete/ come out of the loops that you are entangled in. 

Keep it simple because it’s one life. Complexity makes it difficult.

Attempting to  simplify,

A.